72 एकड़ सरकारी भूमि होने के बावजूद परिषदीय स्कूल जाने का मार्ग नहीं

 

सरकारी भूमि पर जल जीवन मिशन के तहत बनने वाली पानी टंकी पर भी विरोध

 

उत्तर प्रदेशीय – जनपद देवरिया क्षेत्र लार के ग्राम सभा परासी चकलाल के गाटा संख्या 476  सरकारी जमीन पर जल जीवन मिशन के तहत 25 मीटर लंबाई और 20 मीटर चौड़ी 2 करोड़ 40 लाख की लागत से पानी टंकी बनने जा रही है जिसके लिए जमीन चिन्हित कर बोर्ड लगा दिया गया है। ग्राम प्रधान मनु गुप्ता ने बताया कि कुछ लोग इस पर विरोध कर रहे थे पुलिस प्रशासन के बात आने पर पीछे हट गये। ग्राम प्रधान का कहना है कि गाटा संख्या 476 और 429 है जो भूमि सरकारी है यह दोनों नंबर की भूमि लगभग 72 एकड़ बताई जा रही है जिसमें एक फील्ड और एक परिषदीय विद्यालय स्थित है विद्यालय और फिल्ड  की भूमि कुल मिला कर तकरीबन एक से डेढ़ एकड़ है बाकी 70.50 (साढ़े सत्तर) एकड़ जमीन पर लोगों का अवैध कब्जा बताया किया गया है। गांव में 72 एकड़ सरकारी जमीन होने के बावजूद आज तक इस गांव के सरकारी स्कूल और इसी ग्राम सभा के अन्तर्गत आने वाली उसरा टोला में बसे लोगों के लिए सड़क मार्ग नहीं होना पूर्व से लेकर वर्तमान सरकार की नाकामी को को बयां करती है ।

72 एकड़ सरकारी भूमि होने के बावजूद परिषदीय स्कूल जाने का मार्ग नहीं

सरकारी भूमि पर जल जीवन मिशन के तहत बनने वाली पानी टंकी पर भी विरोध

उत्तर प्रदेशीय – जनपद देवरिया क्षेत्र लार के ग्राम सभा परासी चकलाल के गाटा संख्या 476 सरकारी जमीन पर जल जीवन मिशन के तहत 25 मीटर लंबाई और 20 मीटर चौड़ी 2 करोड़ 40 लाख की लागत से पानी टंकी बनने जा रही है जिसके लिए जमीन चिन्हित कर बोर्ड लगा दिया गया है। ग्राम प्रधान मनु गुप्ता ने बताया कि कुछ लोग इस पर विरोध कर रहे थे पुलिस प्रशासन के बात आने पर पीछे हट गये। ग्राम प्रधान का कहना है कि गाटा संख्या 476 और 429 है जो भूमि सरकारी है यह दोनों नंबर की भूमि लगभग 72 एकड़ बताई जा रही है जिसमें एक फील्ड और एक परिषदीय विद्यालय स्थित है विद्यालय और फिल्ड की भूमि कुल मिला कर तकरीबन एक से डेढ़ एकड़ है बाकी 70.50 (साढ़े सत्तर) एकड़ जमीन पर लोगों का अवैध कब्जा बताया किया गया है। गांव में 72 एकड़ सरकारी जमीन होने के बावजूद आज तक इस गांव के सरकारी स्कूल और इसी ग्राम सभा के अन्तर्गत आने वाली उसरा टोला में बसे लोगों के लिए सड़क मार्ग नहीं होना पूर्व से लेकर वर्तमान सरकार की नाकामी को को बयां करती है ।