दरौली: डीलर की मनमानी के खिलाफ उपभोक्ता ने एमओ से की शिकायत

सिवान: किरासन तेल कम देने और अधिक मूल्य लेने पर एक उपभोक्ता ने प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी से आवेदन देकर डीलर के खिलाफ शिकायत की है. दरौली के टोका निवासी भोला चौहान ने इस मामले में अपने ही गांव के जन वितरण प्रणाली के दुकानदार संदीप गुप्ता की शिकायत करते हुए प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को लिखे आवेदन में कहा है कि डिलर द्वारा 3 महीने के बाद मात्र 2 लीटर किरासन तेल दिए हैं और मूल्य भी 50 प्रति लीटर के हिसाब से लिया गया है. जबकि किरासन तेल का वास्तविक मूल्य 42 रुपये है. तीन महीने के बाद दो लीटर तेल और अधिक पैसा लेने का विरोध किया गया तो डीलर द्वारा यह कह कर भगा दिया गया कि लेना है तो लो वरना यह भी नहीं मिलेगा.

 

बतादे कि आपूर्ति विभाग द्वारा दिन प्रतिदिन किरासन तेल वितरण में कटौती करते-करते अब 1 लीटर प्रति महीना तक आ गया है. ऐसे में 3 महीने के बाद भी 1 लीटर तेल की कटौती किए जाने से उपभोक्ताओं में काफी नाराजगी है. उपभोक्ताओं का कहना है कि बिजली की व्यवस्था भले ही बहुत हद तक बेहतर हुई हो, परंतु बरसात के मौसम में अक्सर बिजली की सप्लाई बारिश होती है. ऐसे में किरासन तेल का घर में होना आवश्यक है ताकि रात के समय बिजली कटने पर ढिबरी या लालटेन जलाया जा सके. इधर आपूर्ति पदाधिकारी संतोष सिन्हा ने बताया कि आवेदन मिला है जांच कर कार्रवाई की जाएगी.

*दरौली: डीलर की मनमानी के खिलाफ उपभोक्ता ने एमओ से की शिकायत*
सिवान: किरासन तेल कम देने और अधिक मूल्य लेने पर एक उपभोक्ता ने प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी से आवेदन देकर डीलर के खिलाफ शिकायत की है. दरौली के टोका निवासी भोला चौहान ने इस मामले में अपने ही गांव के जन वितरण प्रणाली के दुकानदार संदीप गुप्ता की शिकायत करते हुए प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को लिखे आवेदन में कहा है कि डिलर द्वारा 3 महीने के बाद मात्र 2 लीटर किरासन तेल दिए हैं और मूल्य भी 50 प्रति लीटर के हिसाब से लिया गया है. जबकि किरासन तेल का वास्तविक मूल्य 42 रुपये है. तीन महीने के बाद दो लीटर तेल और अधिक पैसा लेने का विरोध किया गया तो डीलर द्वारा यह कह कर भगा दिया गया कि लेना है तो लो वरना यह भी नहीं मिलेगा.

बतादे कि आपूर्ति विभाग द्वारा दिन प्रतिदिन किरासन तेल वितरण में कटौती करते-करते अब 1 लीटर प्रति महीना तक आ गया है. ऐसे में 3 महीने के बाद भी 1 लीटर तेल की कटौती किए जाने से उपभोक्ताओं में काफी नाराजगी है. उपभोक्ताओं का कहना है कि बिजली की व्यवस्था भले ही बहुत हद तक बेहतर हुई हो, परंतु बरसात के मौसम में अक्सर बिजली की सप्लाई बारिश होती है. ऐसे में किरासन तेल का घर में होना आवश्यक है ताकि रात के समय बिजली कटने पर ढिबरी या लालटेन जलाया जा सके. इधर आपूर्ति पदाधिकारी संतोष सिन्हा ने बताया कि आवेदन मिला है जांच कर कार्रवाई की जाएगी.