सिवान जिले की 40 पंचायतों में शुरू होगा सालिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोग्राम

सिवान । जिले के 283 ग्राम पंचायतों में से 40 पंचायतों में सालिड एंड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोग्राम शुरू किया जाएगा। पंचायतों में शुरू होने वाले कार्यक्रम को लेकर ग्रामीण विकास विभाग के जल एवं स्वच्छता मिशन द्वारा तैयारी भी शुरू कर दी गई है। इसको लेकर पंचायतों को चिह्नित भी कर लिया गया है। चिह्नित पंचायतों के लिए डीपीआर बनाने का काम भी शुरू हो गया है। पहले चरण में चिह्नित सभी 40 पंचायतों में सालिड वेस्ट मैनेजमेंट का काम शुरू किए जाने की संभावना विभाग द्वारा जताई गई है। इसके बाद चरणबद्ध तरीके से अन्य शेष बचे पंचायतों में लागू किया जाएगा। 1250 राजस्व गांवों का कराया गया है बेसलाइन सर्वे : जानकारी के अनुसार ओडीएफ प्लस योजना के तहत सालिड वेस्ट मैनेजमेंट योजना को लागू करने के लिए जिले के 19 प्रखंडों के 283 पंचायतों के 1528 में से 1250 राजस्व गांवों का बेसलाइन सर्वे कराया गया था। सर्वे के दौरान ग्रामीण इलाकों के घर के साथ सरकारी और गैर सरकारी संस्थान, व्यावसायिक प्रतिष्ठान, छोटी-छोटी दुकानें, हाट बाजार आदि को भी शामिल किया गया है। सर्वे के दौरान सार्वजनिक स्थल, सरकारी संस्थान, बाजार-हाट, निजी व्यवसायिक भवन और गांव में उपलब्ध संसाधन के साथ कचरा प्रबंधन की वर्तमान स्थिति की जानकारी ली गई है। इन पंचायतों में शुरू होगी योजना :

स्वच्छ भारत मिशन जिला कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार 19 प्रखंडों के 283 पंचायतों के 1528 में से 40 पंचायतों को चिह्नित किया गया है। इसमें आंदर प्रखंड का जयजोर व पतार पंचायत, बड़हरिया प्रखंड का हरदोबारा, कोईरिगांवा, लकड़ी दरगाह व रसुलपुर, बसंतपुर प्रखंड का कन्हौली व राजपुर, भगवानपुर हाट प्रखंड का बंसोही व सागर सुल्तानपुर, दरौली प्रखंड का बेलांव व चकरी, दारौंदा प्रखंड का जलालपुर व करसौत, गोरेयाकोठी प्रखंड का आज्ञा व हरपुर, गुठनी प्रखंड का गुठनी व गुठनी पश्चिमी, हसनपुरा प्रखंड का रजनपुरा व सहुली, हुसैनगंज प्रखंड का छपिया बुजुर्ग व मड़कन, लकड़ी नबीगंज प्रखंड का लकड़ी व लखनौरा, मैरवा प्रखंड का इंग्लिस व मुड़ियारी, नौतन प्रखंड का खलवां व मठिया, पचरुखी प्रखंड का मखनुपुर व सहलौर, रघुनाथपुर प्रखंड का कुशहरा व संठी, सिसवन प्रखंड का भागर व भीखपुर, सिवान सदर प्रखंड के बाघड़ा व सरावें, जीरादेई प्रखंड का गड़ार व भरौली तथा महाराजगंज प्रखंड का पोखरा व तक्कीपुर पंचायत शामिल हैं। क्या कहते हैं जिम्मेदार : ओडीएफ प्लस के लिए पहले चरण में 40 पंचायतों को चिह्नित किया गया है। बेसलाइन सर्वे के आधार पर ही चिह्नित पंचायतों के लिए डीपीआर बनाने का काम किया जाएगा। ठोस कचरे के प्रबंधन के लिए ग्रामीणों को घरेलू कचरे के निष्पादन, प्लास्टिक कचरे के प्रबंधन के बारे में भी जानकारी देने के साथ उसके इस्तेमाल के बारे में बताया जाएगा। साथ ही साथ उन्हें कचरे को सेग्रिगेट करने के बारे में भी जानकारी दी जाएगी*सिवान जिले की 40 पंचायतों में शुरू होगा सालिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोग्राम*
सिवान । जिले के 283 ग्राम पंचायतों में से 40 पंचायतों में सालिड एंड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोग्राम शुरू किया जाएगा। पंचायतों में शुरू होने वाले कार्यक्रम को लेकर ग्रामीण विकास विभाग के जल एवं स्वच्छता मिशन द्वारा तैयारी भी शुरू कर दी गई है। इसको लेकर पंचायतों को चिह्नित भी कर लिया गया है। चिह्नित पंचायतों के लिए डीपीआर बनाने का काम भी शुरू हो गया है। पहले चरण में चिह्नित सभी 40 पंचायतों में सालिड वेस्ट मैनेजमेंट का काम शुरू किए जाने की संभावना विभाग द्वारा जताई गई है। इसके बाद चरणबद्ध तरीके से अन्य शेष बचे पंचायतों में लागू किया जाएगा। 1250 राजस्व गांवों का कराया गया है बेसलाइन सर्वे : जानकारी के अनुसार ओडीएफ प्लस योजना के तहत सालिड वेस्ट मैनेजमेंट योजना को लागू करने के लिए जिले के 19 प्रखंडों के 283 पंचायतों के 1528 में से 1250 राजस्व गांवों का बेसलाइन सर्वे कराया गया था। सर्वे के दौरान ग्रामीण इलाकों के घर के साथ सरकारी और गैर सरकारी संस्थान, व्यावसायिक प्रतिष्ठान, छोटी-छोटी दुकानें, हाट बाजार आदि को भी शामिल किया गया है। सर्वे के दौरान सार्वजनिक स्थल, सरकारी संस्थान, बाजार-हाट, निजी व्यवसायिक भवन और गांव में उपलब्ध संसाधन के साथ कचरा प्रबंधन की वर्तमान स्थिति की जानकारी ली गई है। इन पंचायतों में शुरू होगी योजना :
स्वच्छ भारत मिशन जिला कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार 19 प्रखंडों के 283 पंचायतों के 1528 में से 40 पंचायतों को चिह्नित किया गया है। इसमें आंदर प्रखंड का जयजोर व पतार पंचायत, बड़हरिया प्रखंड का हरदोबारा, कोईरिगांवा, लकड़ी दरगाह व रसुलपुर, बसंतपुर प्रखंड का कन्हौली व राजपुर, भगवानपुर हाट प्रखंड का बंसोही व सागर सुल्तानपुर, दरौली प्रखंड का बेलांव व चकरी, दारौंदा प्रखंड का जलालपुर व करसौत, गोरेयाकोठी प्रखंड का आज्ञा व हरपुर, गुठनी प्रखंड का गुठनी व गुठनी पश्चिमी, हसनपुरा प्रखंड का रजनपुरा व सहुली, हुसैनगंज प्रखंड का छपिया बुजुर्ग व मड़कन, लकड़ी नबीगंज प्रखंड का लकड़ी व लखनौरा, मैरवा प्रखंड का इंग्लिस व मुड़ियारी, नौतन प्रखंड का खलवां व मठिया, पचरुखी प्रखंड का मखनुपुर व सहलौर, रघुनाथपुर प्रखंड का कुशहरा व संठी, सिसवन प्रखंड का भागर व भीखपुर, सिवान सदर प्रखंड के बाघड़ा व सरावें, जीरादेई प्रखंड का गड़ार व भरौली तथा महाराजगंज प्रखंड का पोखरा व तक्कीपुर पंचायत शामिल हैं। क्या कहते हैं जिम्मेदार : ओडीएफ प्लस के लिए पहले चरण में 40 पंचायतों को चिह्नित किया गया है। बेसलाइन सर्वे के आधार पर ही चिह्नित पंचायतों के लिए डीपीआर बनाने का काम किया जाएगा। ठोस कचरे के प्रबंधन के लिए ग्रामीणों को घरेलू कचरे के निष्पादन, प्लास्टिक कचरे के प्रबंधन के बारे में भी जानकारी देने के साथ उसके इस्तेमाल के बारे में बताया जाएगा। साथ ही साथ उन्हें कचरे को सेग्रिगेट करने के बारे में भी जानकारी दी जाएगी