आसपुर देवसरा ब्लाक प्रमुख पद पर भाजपा प्रत्याशी कमलाकांत ने 35 वोट से जीत हासिल कर लहराया परचम

 

पट्टी – आसपुर देवसरा ब्लाक प्रमुख पद पर भाजपा प्रत्याशी कमलाकांत ने 35 वोट से जीत का लहराया परचम |

आपको बता दें कि आसपुर देवसरा पट्टी तहसील का एक ऐसा विकास खंड रहा जहां पर चुनाव हुआ | इसमें सपा प्रत्याशी सुषमा यादव ने जहां अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था वही सपाइयों ने पूरी ताकत झोंक दी थी | जिसके चलते आज आसपुर देवसरा में बवाल भी हुआ था | चुनाव के दौरान हुए बवाल में जमकर तोड़फोड़ ईट पत्थरबाजी तक चली और यहां तक कि पुलिस को उपद्रवियों के खिलाफ रबर की बुलेट भी चलानी पड़ी | वही बवाल की सूचना पर एसपी प्रतापगढ़ एलआर कुमार के साथ ही डीएम डॉ नितिन बंसल मौजूद रहे |

आपको बता दें कि इस दौरान जब वोटिंग समाप्त हुई 3 बजे मतगणना हुई तो कमलाकांत को 52 वोट मिले सुषमा यादव को 17 वोट मिले और 3 वोट निरस्त हुए 72 मतों का कुल टोटल मतदान रहा | जिसमें से कमला कांत ने 52 वोट प्राप्त कर जीत हासिल की तो वही सपा प्रत्याशी सुषमा यादव को महज 17 वोट ही प्राप्त हुए | वही सपाइयों ने यह भी आरोप लगाते हुए हंगामा किया कि बूथ पर फर्जी वोटिंग की गई है |

3:00 बजे के बाद चुनाव अधिकारी आरपी सिंह ने कमलाकांत को जीत का प्रमाण पत्र सौंपा जिसे लेकर वह कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह के पास पहुंचे और उनका आशीर्वाद प्राप्त किया | इस दौरान जब कैबिनेट मंत्री से बात हुई तो उन्होंने कहा इस जीत का श्रेय निश्चित रूप से आसपुर देवसरा क्षेत्र की जनता का है | अभी तक आसपुर देवसरा में आतंकवादियों का साम्राज्य था | पहली बार भाजपा ने यहां जीत हासिल कर अपना परचम लहराया है, और यह आसपुर देवसरा क्षेत्र की जनता की जीत है | फिलहाल उन्होंने क्षेत्र की जनता से आशीर्वाद की कामना की है | वही आपको बता दें आसपुर देवसरा यशो द्वारा जो भी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी वह उपद्रवियों के सामने नाकाम साबित हुई | उन्हें पहले से ही पता था कि उपद्रव और बवाल हो सकता है तो पूर्वी बैरियर पर सुरक्षा व्यवस्था उन्होंने कमजोर क्यों रखी | यह सवाल क्षेत्र में लगातार लोगों के बीच में घूम रहा है | जबकि उपद्रवियों द्वारा किए गए तोड़फोड़ के सवाल पर कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप उर्फ मोती सिंह ने कहा कि जिन लोगों ने भी कानून व्यवस्था हाथ में ली है उनके खिलाफ सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी |