तीसरी लहर की तैयारीः सीवान में RTPCR लैब का लोकार्पण, सभी सदर अस्पतालों में बनाने की घोषणा

बिहार में तीसरी लहर से निबटने की तैयारियां जारी हैं। राज्य के सभी जिला (सदर) अस्पतालों में आरटीपीसीआर लैब स्थापित की जाएगी। यह बात गुरुवार को स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने वर्चुअल माध्यम से सीवान सदर अस्पताल में स्थापित आरटीपीसीआर लैब के लोकार्पण के मौके पर कही। कहा कि आने वाले समय में सभी सदर अस्पताल में क्रमवार आरटीपीसीआर लैब स्थापित करने की योजना है।

 

मंत्री ने कहा कि अगले दौर में भी जो चुनौतियां आएंगी स्वास्थ्य विभाग उसका मजबूती से सामना करेगा। जिला के अंदर ही बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने को लेकर मेडिकल कॉलेज सह अस्पतालों के अलावा अनुमंडल एवं सदर अस्पतालों समेत सभी पीएचसी/ सीएचसी और एपीएचसी को सुदृढ़ कर उसे आधुनिक बनाया जा रहा है

आरटीपीसीआर लैब और ऑक्सीजन प्लांट के अलावा जरूरी उपकरण भी लगाये जा रहे हैं, ताकि राज्य के लोगों को उनके जिले और घर के समीप ही बेहतर स्वास्थ्य सुविधा प्राप्त हो सके। मंत्री ने कहा कि 15 माह पहले देश में मात्र एक वायरोलॉजिकल लैब पुणे में था, लेकिन अब देश में आरटीपीसीआर लैब की संख्या 2500 से अधिक है। बिहार में भी इसकी संख्या तेजी से बढ़ रही है।

 

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि सीवान दसवां जिला है जहां आरटीपीसीआर जांच शुरू होने जा रही है। इसकी क्षमता एक बार में 96 सैंपल और पुलिंग करके एक दिन करीब एक हजार सैंपल जांचने की है। बहुत जल्द सीवान सदर अस्पताल में सीटी स्कैन मशीन भी लग जायेगी। इसके लिए निविदा की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। साथ ही, ऑक्सीजन के लिए महाराजगंज अनुमंडल और सीवान सदर अस्पताल में पीएसए प्लांट लगाये जा रहे हैं।

 

श्री पांडेय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर टीकाकरण में तेजी लायी जा रही है। एक जुलाई से टीकाकरण की संख्या को और बढ़ा दिया गया है। शहरी क्षेत्र के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में टीका एक्सप्रेस के द्वारा अधिक से अधिक लोगों को टीका दिया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग छह माह में छह करोड़ टीकाकरण के लक्ष्य को पूरा करने के लिए अपने स्लोगन (कर दिखायेगा बिहार), सोच और संकल्प के साथ आगे बढ़ रहा है। लोकार्पण कार्यक्रम का संचालन जिलाधिकारी अमित कुमार ने किया। वर्चुअल माध्यम से सांसद कविता देवी, विधायक व्यास सिंह, अवध बिहारी चौधरी, देवेश कांत सिंह सहित जिले के अन्य विधायक व अन्य जनप्रतिनिधि जुड़े।